Monday, April 20, 2009

बुन्देखंड क्या फ़िर से आबाद हो पायेगा ?

बुन्देखंड क्या फ़िर से आबाद हो पायेगा ?
ऐसा लगता तो नही है, और मैं निराशावादी भी नही हूँलेकिन आज जिस कदर बुंदेलखंड में प्राकृतिक संसाधनों का दोहन बिना सोचे समझे हो रहा है, उससे अब बुंदेलखंड में पुनः सामान्य जन जीवन हो पाना मुश्किल ही नही अपितु असंभव जान पड़ता है। सामान्य जन जीवन की बहाली बुंदेलखंड में अब उतनी ही कठिन है जितना कठिन मरुस्थल में दूब उगाना हैमरुस्थल की ओर, आज बुंदेलखंड अग्रसर है और शायद एक से डेढ़ दशक लगेंगे जब बुंदेलखंड में भी मरुस्थल की तरह रेत के टीले और उनके पीछे पानी का आभास दिलाते हुए मृग मरीचिका दिखाई पड़ेगी। आज छतरपुर शहर में दोनों वक्त पानी नलों में नही आते, दोनों वक्त की तो छोडिये रोज़ भी नही आता है, एक दिन छोड़ करके आता है यहाँ के नलों में पानीअब ऐसे में नगरवासी किस तरह से रोज़ के जीवन में जल प्रबंधन करते होंगे शोध का विषय हो सकता हैयह तो हाल है छतरपुर का बाकी के जनपद जो बुंदेलखंड क्षेत्र में आते है उनका भी हाल कुछ ऐसा ही हैछतरपुर और पन्ना जिलों के मध्य पन्ना घाटी है, पन्ना घाटी कुछ वर्ष पहले तक सालभर हरी भरी रहती थी लेकिन अब पाना घाटी के जल श्रोत सूख रहे है धीरे-धीरे, जिसका सीधा असर घाटी में स्थिति पेड़ पौधों पर पड़ रहा हैहरी भरी घाटी अब उजडे जंगल सी दिखने लगी हैमहोबा जिला जो की उत्तर प्रदेश में पड़ता है उसकी भी स्थिति कुछ ऐसी ही है , यहाँ बड़े तालाबों को सागर कहते है लेकिन यह सागर भी अब अपने स्थिति पर आंसू बहा रहे हैमहोबा से १५-१७ किलोमीटर दूर कबरई है जो की किसी युद्ध क्षेत्र की तरह दिखने लगा है, सफ़ेद पेड़, खेतो में एक मोटी परत पत्थर तोड़ने की प्रक्रिया में उड़ने वाली धूल की , कल तक जहा पहाड़ थे, आज वहां सैकडों फिट गहरी खाई हैलोगो के चहरे पर मुर्दनी छाई रहती है बहुतो ने अपनी आँखे गँवा दी है, और बहुतो के फेफड़े सड़ गए है सिलिका नामक धूल के कणों सेइन सब की वजहों से हर साल बुंदेलखंड से लाखों की संख्या में बुंदेलखंड वासी पलायन कराते है महानगरों की ओर, जहा पर इनकी भूमिका जादातर निर्माण मजदूर की होती हैयह बुन्देली लोग जब जल और सूखे की समस्या से भागते है महानगरों की ओर तबभी इनकी स्थिति में कोई बदलाव नही होता हैइन्हे तपती दोपहरी में काम करना पड़ता है और रात को किसी नदी, नाले या पुल के नीचे स्थित झुग्गी-झोपडी में रात बितानी होती है जहा पर इनके साथ वह साड़ी समस्याएँ खड़ी रहती है जिनसे बचने के लिए यह लोग बुंदेलखंड से पलायित होते हैएक पुरानी कहावत है धोबी का कुत्ता घर का घाट कावाह री हमारी कल्याणकारी सरकारें क्या यह सारे लोग इन्ही सब चीजो के लिए अपनी गाढ़ी कमाई से कर देते हैइनसे वसूले जाने वाले कर का हिसाब क्या कभी हमारी सरकारें दे पाएंगी या इनके साथ न्याय कर पाएंगीबहुत कठिन है इस बारे में कह पाना भीकिसी भी राजनैतिक दल के घोषणा पत्र
में इन सब लोगो से जुड़ी कोई भी सीधी बात का भी अकाल है, किसी के लिए यह मुद्दा नही हैमहानगरों के झुग्गियों में रहने वाले लोग महानगरों के मतदाता नही है और चूंकि यहाँ से पलायन कर गए है तो यहाँ भी मतदान में उनकी भूमिका नगण्य है, मेरी समझ से शायद इसी लिए किसी भी राजनैतिक दल को इनकी सुध लेने की जरूरत नही पड़ती ।
बुंदेलखंड की कहानी अधूरी रह जाती है अगर हम बुंदेलखंड के मवेशियों का जिक्र करेंबुंदेलखंड में एक प्रथा मवेशियों से जुड़ी हुई है जिसे बुन्देली लोग अन्ना प्रथा कहते हैयह प्रथा सदियों पुरानी है, जिससे यह प्रमाणित होता है की बुंदेलखंड में सदियों से सूखा पड़ता रहा है कुछ वर्षो के अंतराल के साथ , लेकिन उस समय वन और वनस्पति भरपूर मात्रा में थी जिसकी वजह से सभी किसान गर्मी के दिनों में अपने पशुओं को छुट्टा छोड़ देते थेइस छुट्टा छोड़ देने की प्रथा को ही अन्ना प्रथा कहते हैयह सारे छुट्टा मवेशी वनों के भरोसे गरमी का मौसम बिताते थे, गर्मी के बाद जैसे ही बरसात आती थी तब किसान अपने पशुओं को दूंढ -ढांढ कर लाते थेआज भी बुंदेलखंड में यह प्रथा लागू है लेकिन अब पशु वनों के बजाय सड़कों और सूखे खेतों में आवारगी करते हैजल और घास के संकट से जूझते हुए यह मवेशी बड़ी संख्या में काल के गाल में समा जाते हैकितने पशु मरे और क्यों मरें इन सबका हिसाब किताब रखने वाला कोई नही है
बुंदेलखंड में लगभग २९००० तालाब है जिनमे से अधिक्तर आज कीचड और गन्दगी की वजह से उथले हो गयी है या फ़िर पहाड़ के ख़ुद जाने से उनमे अब पानी आने का रास्ता नही रह गया हैपूर्व में यह सारे तालाब वर्ष भर बुंदेलखंड के लोगो और मवेशियों को जल उपलब्ध कराते थेआज इन सारे तालाबों को ही किसी तारनहार की जरूरत है, इन तालाबों को अगर फ़िर से व्यवस्थित किया जा सके तो शायद बुंदेलखंड के बहुत सारे जानवरों को बिना पानी के मरने से बचाया जा सके और इसके साथ ही जो भूगर्भ जल तैयार होगा वह यहाँ के लोगो की प्यास बुझा सकेगा

हमारी सरकारें चाहे वह राज्य की हो या फ़िर केन्द्र की उनमे से कोई भी शुद्ध पेय जल की उपलब्धता को जीवन जीने के अधिकार (अधिनियम २१ ) के तहत क्यों नही लाती हैक्यू लायेगीं जब चिकित्सा सुविधा या भोजन अधिकार को आज तक नही ला पायीयह विडम्बना है दुनिया के सबसे बड़े लोकतान्त्रिक देश का जहाँ पर - जनता के द्वारा, जनता पर , जनता का शासन होता है
प्रशांत भगत के साथ बलवंत ताऊ

5 comments:

Babli said...

पहले तो मै आपका तहे दिल से शुक्रियादा करना चाहती हू कि आपको मेरी शायरी पसन्द आयी !
आप का ब्लोग मुझे बहुत अच्छा लगा और आपने बहुत ही सुन्दर लिखा है !

गर्दूं-गाफिल said...

बुदेलखंड का दर्द ठीक बयां किया है आपने । भगत जी
लेकिन ऐसा क्यूँ हुआ ?सरकार कोई भी हो यदि चरित्रवान ,दयावान , न्यायप्रिय ,साहसी ,और बुद्धिमान ,लोकतान्त्रिक ,व्यक्ति समूह ,अपनी आरामगाह से बाहर आकर सरकार पर नियंत्रण रखने के लिए आगे नही आएगा तो कुछ नहीं हो सकेगा ।
दुनिया में कितनी ही व्यवस्थाएं सफलता पूर्वक चल रहीं हैं या चलीं हैं ,पूँजी वादी अमेरिका ,साम्यवादी माओवादीचीन ,साम्यवादी मार्क्सवादी रशिया ,मध्यमार्गी प्राचीन हिंदू पद्धति , सभी ने अपना स्वर्ण काल देखा है ,
हर पद्धति में कुछ न कुछ कमियां रही , जो उसके पतन का कारण बनी ,सीधी सी बात है जब तक नेत्रत्व समूह में गुणवान दयावान लोग थे समाज ने सुख अनुभव किया ,जैसे ही उनकी जगह ठग आए व्यवस्था ध्वस्त हो गयी ,
लोग इतना ठगे गए हैं की उन्हें अब अपनी गरीबी ही ठगे जाकर अपमानित होने से भली लगती है ,कोई भी इन ठगों को व्यस्था में आने से रोक नहीं सकता लेकिन इन्हे देर तक छकाये रख कर स्वर्णकाल की अवधि की लम्बी बढ़ाई जा सकती है अच्छा हो कि जनता समझे कि सरकार तो एक अनिवार्य बुराई है , लेकिन कर्ताधर्ताओं के अच्छे कार्यों कि सराहना और बेईमानी ,भ्रस्टाचार की मुह पर बुराई करने का काम बुन्देलखंडी समाज कर लेगा तो बुन्देल खंड के दिन फिर बहुरेंगे ,यह काम हम ही कर ले तोअच्छा होगा ,अन्यथा आप पर राज करने के लिए अमेरिका चीन पाकिस्तान सभीकोशिश में जुटे हैं उन्हें यहाँ श्यागी भी हासिल होरहे हैं ,जो या तो उनसे सहमत हैं या भ्रम में हैं या फ़िर भ्रष्ट हैं

sanjaygrover said...

हुज़ूर आपका भी एहतिराम करता चलूं ..........
इधर से गुज़रा था, सोचा, सलाम करता चलूंऽऽऽऽऽऽऽऽ

ये मेरे ख्वाब की दुनिया नहीं सही, लेकिन
अब आ गया हूं तो दो दिन क़याम करता चलूं
-(बकौल मूल शायर)

आचार्य संजीव वर्मा 'सलिल' said...

विकास की पूर्वपीठिका विनाश ही होती है...रात की सियाही ही भोर की सूचना देती है. बुंदेलखंड में आजादी के बाद ५० वर्षों तक ट्रेन को न रोका गया होता तो वह बहुत आगे होता. बरगी बांध की नहरे जब खेतों को सींच कर खलिहानों को भरेंगी, जब गाँव-गाँव में किसान खेतों से सोना पैदा करेगा तब तस्वीर बदलेगी. विकास को रोका नहीं जा सकता. हम करें यह की जितने झाड़ विकास की बलि चढ़ रहे हैं उनसे दोगुने लगायें. विकास न होने पर भी तो इन झाडों को काट कर जला ही रहे थे. अब पानी आयेगा तो बुंदेलखंड की प्यास बुझेगी.

आचार्य संजीव वर्मा 'सलिल' said...

विकास की पूर्वपीठिका विनाश ही होती है...रात की सियाही ही भोर की सूचना देती है. बुंदेलखंड में आजादी के बाद ५० वर्षों तक ट्रेन को न रोका गया होता तो वह बहुत आगे होता. बरगी बांध की नहरे जब खेतों को सींच कर खलिहानों को भरेंगी, जब गाँव-गाँव में किसान खेतों से सोना पैदा करेगा तब तस्वीर बदलेगी. विकास को रोका नहीं जा सकता. हम करें यह की जितने झाड़ विकास की बलि चढ़ रहे हैं उनसे दोगुने लगायें. विकास न होने पर भी तो इन झाडों को काट कर जला ही रहे थे. अब पानी आयेगा तो बुंदेलखंड की प्यास बुझेगी.