Thursday, September 23, 2010

कब तक आम भारतवासी को हरी और खाकी वर्दी वालो के बीच संगीनों के साये में रहना पडेगा

भारत के सर्वोच्च न्यायालय ने उत्तर प्रदेश के उच्च न्यायालय को अयोध्या मसाले पर का २४ सितम्बर को फैसला सुनाने पर रोक लगा दी है / सर्वोच्च न्यायालय ने ऐसा रमेश चन्द्र त्रिपाठी की याचिका पर किया है /
मै समझ नहीं पा रहा हूँ रमेश चन्द्र के इस तर्क को कि, जिस मुद्दे पर विगत ६० वर्षों से मुक़दमा चल रहा है और कल फैसला सुनाया जाना था उसे रमेश चन्द्र समझौते और दंगे की दुहाई दे करके बार - बार फैसले को रोकने की कोशिश क्यों कर रहे है / रमेश चन्द्र को क्यों विश्वास है कि फैसले के बाद दंगे होंगे और स्थिति को पुलिस और अर्ध सैनिक बल नियंत्रित नहीं कर पायेंगे ? आखिर इसके पीछे उनके पास कौन से तर्क है या कौन से विश्वसनीय एजेंसी ने उन्हें सूचना मुहैया कराई है कि, फैसले के बाद दोनों में से किसी एक धर्म के लोग हिंसक हो उठेंगे ? फैसले के मद्देनज़र जितने बलों की अब तक तैनाती हो चुकी है उसे और कितने दिनों तक तैनात रहना पड़ेगा उसका खर्च कहा से किस मद से उठाया जाएगा ? कब तक आम भारतवासी को हरी और खाकी वर्दी वालो के बीच संगीनों के साये में रहना पडेगा ? ६० वर्षों तक न्यायालय के बाहर कोई सुलह समझौता नहीं हुआ और ऍन फैसले की घड़ी में सुलह का राग अलापा जा रहा है / इस पूरे मसले पर हमारी राज्य सरकारे क्यों चुप्पी साधे हुए है, एक व्यक्ति कह रहा है कि फैसले के बाद स्थिति नियंत्रण के बाहर होगी और बिना किसी जाच के बिना किसी पड़ताल के सब लग गए हिंसा को रोकने के क्रम में /

3 comments:

माधव said...

no i do not agree with you. our country is in a poor form now a days. Commonwealth games, Flood, J &K issue and many more

प्रशांत भगत said...

@ माधव - बेटा माधव मुझे भी पता है कि हमारा देश बहुत गरीब है, यह मंदिर - मस्जिद का विवाद गरीबों को भूखे सोने को मजबूर कर रहा है क्यूंकि, बहुत सारे गरीब आदमी रिक्शा चलाकर, जूता पालिश कर चाय बेच कर और न जाने कितने छोटे - छोटे काम कर के अपनी रोटी जुटाते है / धारा १४४ लागू होने से और चारों तरफ पुलिस की अस्थायी नियुक्ति से उनके रोज़गार उनकी रोज की कमाई पर प्रभाव पड़ रहा है / उन गरीब के घरों में भी आप जैसे माधव है जिन्हें दूध नहीं मिल पा रहा है / ऐसे में बेटा कब तक कामन वेल्थ खेलों और बाढ़ की दुहाई देकर अपने मन को बहलाएं ? कुछ लोग उत्तर प्रदेश और मध्य प्रदेश को भी कश्मीर जैसा बनाने पर अमादा है इसीलिए अदालत के फैसले को रोक कर जनमानस की भावनाओं को भडकाकर राजनीतिक फायदा उठाने की कोशिश में लगे है / आप मेरी बात से सहमत नहीं हो कोई बात नहीं/

डॉ. नूतन डिमरी गैरोला- नीति said...

आपके विचार सार्थक हैं .. .. आज चर्चामंच पर आपकी पोस्ट है...आपका धन्यवाद ...मकर संक्रांति पर हार्दिक बधाई

http://charchamanch.uchcharan.com/2011/01/blog-post_14.html